Mon. Dec 9th, 2019

Affiliate Marketing होता क्या है?

अगर आपके पास में कोई ब्लॉग या वेबसाइट है। तो आपने भी यह शब्द जरूर सुना होगा। Affiliate मार्केटिंग के बारे में।

बहुत सारे ब्लॉग और वेबसाइट ओनर एफिलिएट मार्केटिंग के जरिए अच्छी खासी रकम कमा लेते हैं। आपने भी Affiliate Marketing अपने ब्लॉग या वेबसाइट पर करने के बारे में सोची होगी। नये ब्लॉकर्स को Affiliate मार्केटिंग और उसके बारे में जानकारी बहुत जरूरी हो जाती है। अगर आप एफिलिएट मार्केटिंग अपने ब्लॉग या वेबसाइट में करना चाहते हैं तो आप जान लेना जरूरी है कि अपीलेट मार्केटिंग होता क्या है?

एफिलिएट मार्केटिंग होता क्या है?

अगर आप एक ब्लॉगर है या आपके पास में एक नया वेबसाइट है। तो आपके लिए Affiliate मार्केटिंग का काम मुश्किल हो सकता है। एफिलिएट मार्केटिंग का इस्तेमाल करने के लिए कम से कम आप के ब्लॉग या वेबसाइट में हर दिन 5000 व्यूज कम से कम होने चाहिए।

अगर आप के ब्लॉग या वेबसाइट पर ट्राफिक नहीं होगा तो आप इतनी अच्छी तरह से एफिलिएट मार्केटिंग नहीं कर पाएंगे।

गूगल ऐडसेंस की तरह ही एफिलिएट मार्केटिंग भी है। लेकिन एफिलिएट मार्केटिंग का प्लेटफार्म बहुत ही बड़ा है। ऐसा इसलिए है क्योंकि एफिलेट मार्केटिंग हजारों कंपनी से मिलकर के बना है। लेकिन गूगल ऐडसेंस की तरह या दूसरा ऐड नेटवर्क की तरह इसमें ज्यादा रूल्स और रेगुलेशन नहीं होता। आप अपने मन मुताबिक एफिलिएट मार्केटिंग के लिंक्स शेयर कर सकते हैं। एफिलिएट मार्केटिंग वेबसाइट ब्लॉग से पैसे कमाने का सबसे बढ़िया तरीका है।

2019 में एफिलिएट मार्केटिंग में 1000 से भी ज्यादा आरो कंपनीज लिस्टेड है। मान लीजिए कि आप अपने वेबसाइट का कोई प्रोडक्ट प्रमोट करना चाहते हैं। इसके लिए आप उस प्रोडक्ट का अपनी वेबसाइट पर अपीलेट सर्विस शुरू करते हैं। इस प्रोडक्ट को प्रमोट करने के लिए आप कितना कमीशन देंगे या इस प्रोडक्ट को कोई खरीदना है तो उस पर आप मार्केटिंग करने वाले को कितना कमीशन देने वाले हैं यह डिसाइड करते हैं।

ठीक इसी तरह बहुत से वेबसाइट और ब्लॉग अपने प्रोडक्ट या अपने वेबसाइट को प्रमोट करने के लिए एपलेट मार्केटिंग का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन ज्यादातर वेबसाइट अपने किसी खास प्रोडक्ट को बेचने के लिए एफिलिएट मार्केटिंग करते हैं। मान लीजिए आप किसी वेबसाइट से अपीलेट मार्केटिंग लेते हैं। इसके बदले में आपको उस वेबसाइट के बैनर्स, पोस्टर आदि को अपने वेबसाइट पर प्रमोट करना होता है।

साथी में मान लेते हैं कि आपके ब्लॉग या वेबसाइट पर उस प्रोडक्ट रिलेटेड कुछ आर्टिकल्स भी है। आर्टिकल्स या पेजों पर आप उन प्रोडक्ट्स का पोस्टर और बैनर लगाते हैं। उन आर्टिकल्स की मदद से अगर किसी व्यूवर्स को वह प्रोडक्ट पसंद आता है, और आपके दिए गया affiliate लिंक से इस प्रोडक्ट को खरीदता है। तो वह वेबसाइट या कंपनी आपको इसके बदले में कमीशन देती है।

Affiliate Marketing Program से आपकी इनकम कैसे होती?

आप इंटरनेट पर मौजूद किसी भी एपलेट प्रोग्राम को ज्वाइन करते हैं। तो इसके बदले में आपको वह वेबसाइट या कंपनी कुछ ads, banner ads,tax ads या code text मिलता है। जिसको आपको अपने ब्लॉग या वेबसाइट पर लगाना होता है।

अगर कोई बंदा इन ads, या code text के जरिए कंपनी के वेबसाइट पर पहुंचता है और वहां से कुछ प्रोडक्ट्स खरीदता है। तो कंपनी इसके बदले में आपको कुछ कमीशन देती है। यह बात तो एकदम साफ है कि व्यूवर्स आपके वेबसाइट पर मौजूद लिंक के जरिए अगर कंपनी के वेबसाइट पर पहुंचता है और वहां से प्रोडक्ट खरीदा है तभी आपकी इनकम होती है। यह कंपनी आपको कमीशन के तौर पर $1 से लेकर के $1000 तक कमीशन के तौर पर देती है।

नए ब्लॉग और वेबसाइट ओनर को कौन सा Affiliate Program ज्वाइन करना चाहिए?

अगर आप नए ब्लॉगर या वेबसाइट ओनर है, तो आपको बहुत ही सोच समझ कर के Affiliate Program चुनना चाहिए।

अगर आप ऐसा कोई Affiliate Program ज्वाइन कर लेते हैं। जिन से रिलेटेड आर्टिकल आपके ब्लॉग पर ही नहीं है। तो भी आपको इससे कोई फायदा होने वाला नहीं है। क्योंकि लोग आपके ब्लॉग से प्रभावित होकर उस लिंक पर क्लिक नहीं करेंगे। आपका ज्यादा ध्यान उन सारी चीजों पर होना चाहिए जैसे कि, आपका ब्लॉग जिस चीज से रिलेटेड है, या आपके ब्लॉग में उस से रिलेटेड आर्टिकल है जिसका आप Affiliate Program ले सकते हैं। या तो आप यह भी कर सकते हैं कि आपके ब्लॉग या वेबसाइट पर विवर्स सबसे ज्यादा किस चीज को सर्च करते हैं। उसी के अनुसार आप Affiliate Program ले सकते हैं।

अगर आपका वेबसाइट Smartphone, electronic जैसी चीजों से रिलेटेड है। तो आप स्मार्टफोन या इलेक्ट्रॉनिक चीजों का Affiliate Program ले सकते हैं। अगर वही आपका ब्लॉग अगर Beauty and Fashion से रिलेटेड है तो आप यहां पर ब्यूटी प्रोडक्ट्स, फैशनेबल क्लॉथस जैसी चीजों का Affiliate Program ले सकते हैं। हमारे इन उदाहरणों द्वारा आपको यह तो समझ में आ ही गया होगा कि, आपको किस तरह का Affiliate Program ले सकते हैं।

Hindi और English ब्लॉगर को या वेबसाइट ओनर को कौन सा Affiliate Program फायदेमंद होता है?

यह बात तो एकदम साफ है कि इंग्लिश ब्लॉगर को एफिलिएट मार्केटिंग में ज्यादा दिक्कत तो नहीं आती। क्योंकि उनके ब्लॉग या वेबसाइट पर पूरी दुनिया से ट्रैफिक आता है। ऐसे तो खास दिक्कतें हिंदी ब्लॉगर को होती है। क्योंकि उसके पास एक ही विकल्प जाता है उसके पास आने वाले ट्राफिक ज्यादातर हिंदी बोलने वाली कंट्रीज से होती है।

तो हिंदी ब्लॉगर्स को मेरी यह सलाह रहेगी कि अगर आपको affilate मार्केटिंग ज्वाइन करते हैं। तो ऐसे Affiliate Program ज्वाइन करें, जो कि भारत में फेमस है। मेरा इससे कहने का मतलब यह है कि जिसकी ऑनलाइन मार्केटिंग पर भारतीय लोग विश्वास करते हैं। ज्यादातर यह देखा गया है कि, भारतीय लोग ऑनलाइन मार्केटिंग पर इतना विश्वास नहीं करते। लेकिन जब से डिजिटल इंडिया आया है तब से लोगों में ऑनलाइन मार्केटिंग की तरफ रुझान बढ़ गया है। इससे Affiliate Marketing को भी बहुत बड़ा अच्छा रिस्पांस मिला है।

इसके अलावा भी आपके मन में बहुत सारे सवाल होंगे जैसे कि

  • Affiliate Program किसी भी कंपनी का जॉइन करने के लिए क्या चार्ज करती है?
  • कोई भी वेबसाइट Affiliate Program चला रही है या नहीं इसकी जानकारी कैसे मिलेगी?
  • Affiliate Marketing ads के साथ Google Adsense भी चला सकते हैं या नहीं?

Affiliate Program के साथ आप कोई भी ऐड नेटवर्क को चला सकते हैं। इसमें आपको कोई भी दिक्कत नहीं होगी। इसके लिए कोई भी वेबसाइट आपसे कोई चार्ज नहीं लेती।

कोई वेबसाइट या कंपनी एफिलिएट मार्केटिंग की सर्विस दे रही है कि नहीं यह जानने के लिए आप गूगल सर्च करके खोज सकते हैं। गूगल में ऐसे कई वेबसाइट हैं जो इसके बारे में आपको जानकारी देती है। जैसे कि Hastagat.com इस वेबसाइट में जाकर आपको इसकी जानकारी मिल जाएगी की वेबसाइट या कंपनी affiliate से जुड़ी है कि नहीं।

आपको हमारा या आर्टिकल कैसा लगा हमें कमेंट सेक्शन में कमेंट करके जरूर बताएं। अगर आपको हमारा या आर्टिकल पसंद आया हो तो अपने दोस्तों और फैमिली में दोस्त के साथ जरूर शेयर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *